Unmukt – उन्मुक्त

हिन्दी चिट्ठाकार उन्मुक्त की चिट्ठियाँ

January, 2011

पॉन्डेचेरी फ्रांसीसी कॉलोनी थी

रात में, पॉन्डेचेरी का समुद्र तटइस चिट्ठी में पॉन्डचेरी यूनियन ट्रेरिटरी के बारे में एतिहासिक अ

Tags: ,

Posted in Full Articles | No Comments »

क्या टैटूईन ग्रह की तरह हमारे भी दो सूरज होंगे

इस चिट्ठी में, स्टार वारस् फिल्म श्रृंखला,  औरायन तारा समूह के दूसरे सबसे चमकीले तारे बीटलजूस (या बॅटेलजऍस) के सूपरनोवा बनने की चर्चा है।
टैटूईन ग्रह में सर्यास्त का दृश्य

‘उन्मुक्त जी, क्या टैटूईन नया ग्रह मिल गया है? क्या यह ज्योतिष को गलत सिद्ध कर देगा?’

नहीं भाई, नहीं बहना। मैं तो ज्योतिष के बारे में बात नहीं करना चाहता। मैं एक श्रृंखला लिख कर काफी परेशानी झेल चुका हूं। टैटूईन तो प्रसिद्ध विज्ञान कहानी फिल्म श्रंखला ‘स्टार वॉरस्’ का  काल्पनिक ग्रह है। इस फिल्म का हीरो ल्यूक स्काईवऑकर इस ग्रह के  शहर ट्यूनिसिआ में रहता है। यहां दो सूरज हैं।

इस फिल्म श्रृंखला में छः फिल्में हैं। सबसे पहली फिल्म ‘स्टार वारस्’ थी। इसका बाद में नाम ‘द न्यू होप’, रख दिया गया। यह इस फिल्म की चौथी कड़ी थी। उसके बाद इसकी दो उत्तर फिल्में ‘द एम्पायर स्ट्राइक बैक’ और ‘रिटर्न ऑफ द ज़ेदाई’ नाम से बनी। यह इस श्रृंखला की पांचवी और छटी कड़ी थीं।

इसके बाद इसकी तीन पूर्व कथायें ‘द मैनस ऑफ फैंटम’, ‘अटैक ऑफ द क्लोंस्’ और’ ‘रिवेंज ऑफ द सिथ’ बनी। यह इस श्रृंखला की पहली, दूसरी, और तीसरी कड़ी थी।

‘स्टार वारस्’ फिल्म १९७७ में बनी थी। १९९७ में, इसकी बीसवीं वर्षगांठ पर, इसे स्पेशल एफेक्टस् के साथ पुनः जारी किया गया। ऊपर का दृश्य इस फिल्म से है।
‘उन्मुक्त जी, हमारा दूसरा सूरज कहां से आयेगा?’

 आकाश में बहुता से तारा समूह हैं। शृंखला ‘ज्योतिष, अंक विद्या, हस्तरेखा विद्या, और टोने-टुटके‘ लिखते समय, मैंने इसकी कड़ी ‘राशियां Signs of Zodiac‘ में तारा समूहों की चर्चा की थी। इसमें एक तारा समूह है मृगशीर्ष (हिरन- हिरनी) या Orion (ऑरायन) है।

यह चित्र हबल टेलेस्कोप की वेबसाइट से है।

इस तारा समूह को अपने यहां हिरण और ग्रीस में शिकारी के रूप में देखा गया है पर मुझे तो यह तितली सी लगती है। यह आजकल शाम से दिखाय़ी पड़ता है। इसे आप आसानी से पहचान सकते हैं।  

तारा समूह के चित्र में बांयी तरह के एक तारे पर पीले रंग का x बना है। यही तारा बीटलजूस (या बॅटेलजऍस) है। इस समय यह लाल दैत्याकार तारा है जिसका चित्र बायी तरफ दिखाया गया है।  

‘उन्मुक्त जी, यह बीटलजूस दूसरा सूरज कैसे बनेगा?’

बाईबिल, खगोलशास्त्र, और विज्ञान कहानियां‘ श्रृंखला की  कड़ी ‘तारों का अन्त कैसे होता है‘ लिखते समय मैंने लाल दैत्याकार तारों और अधिनव तारा (Super nova) (सुपरनोवा), या नोवा (Nova), की चर्चा की थी। वहीं यह बात भी विस्तार से बतायी है। 

बीटलजूस अपने सूरज से २० गुना ज्यादा भारी है। इसलिये यह तारा अधिनव तारा बन सकता है। यह शायद इस साल हो। इसलिये इसे दूसरा सूरज कहा जा रहा है।

‘उन्मुक्त जी, तब क्या टैटूईन की तरह, हमारी पृथ्वी पर इसी तरह का दृश्य दिखायी देगा?’

इस समय रात के आकाश में, बीटलजूस, आकाश में आठवां और ऑरायन तारा समूह का दूसरा चमकीला तारा है। सुपरनोवा बनने के बाद यह रात के आकाश में सबसे चमकीला तारा हो जायगा लेकिन दूसरा सूरज नहीं बन पायेगा। शायद यह पूर्णमासी के चांद के बराबर हो पर दिन में न दिखायी पड़े। हांलाकि सबसे प्रसिद्घ सुपरनोवा, १०५४ ईसवी में देखा गया था। इसके बारे में चीन और अरब के खगोलशास्त्रियों ने लिखा है। यह दिन में भी, २३ दिन तक, और ६५५ रातों में यानि कि लगभग दो साल तक दिखायी पड़ा।

बीटलजूस हमसे बहुत दूर है – लगभग ६०० प्रकाश वर्ष। किसी सुपरनोवा के द्वारा पृथ्वी पर तभी नुकसान हो सकता है जब वह हमसे केवल २५ प्रकाश या इससे कम दूरी पर हो।

‘क्या, जैसा मायन कैलेंडर कहता है, हमारी पृथ्वी नष्ट हो जायगी?’

मायन कैलेंडर के मुताबिक तो २०१२ पृथ्वी का अन्तिम वर्ष है। यही कारण है कि आजकल तरह तरह की खबरें प्रकाशित हो रही हैं। आप निश्चिन्त रहें। इससे हमारी पृथ्वी को मुश्किल नहीं है। यह कयामत अग्रदूत न हो कर खगोलशास्त्र के लिये सैकड़ो सालों में होनावाला सबसे बड़ा फायदा है।

इसके बारे एक छोटा सा विडियो देखिये। इसे देख कर आप इसे आसानी से आकाश में पहचान पायेंगे।

मुन्ना हमारा बेटा कुछ दिनों पहले भारत आया था। हमें उसके साथ दिल्ली में समय बिताने का मौका मिला। हम लोग वहां नेहरू तारा घर भी गये। वहां आजकल ‘चन्द्रशेखर तारों के सहयात्री’ नामक प्रोग्राम चल रहा है। चन्द्रशेखर ने अपना महत्वपूर्ण काम ब्लैक होल्स् पर किया है। इस प्रोग्राम में ब्लैक होलस् और अधिनव तारों के बारे में अच्छी जानकारी है। आप भी अपने बेटे और बेटियों के साथ यह प्रोग्राम देखें। 

यदि आपने स्टार वॉर्स्  फिल्म श्रंखला नहीं देखी है तब अवश्य देखें पर अपने बच्चों के साथ। आपको पसन्द आयेगी। उनके साथ ज्यादा समझ में भी आयेगी।

रात में सोने से पहले ऑरायन और बीटलजूस को देखना भी न भूलियेगा। घर वालों और पड़ोस के लोगों को दिखाइयेगा और यह भी बताइयेगा कि कोई प्रलय नहीं आने वाली है।

अरविन्द जी ने भी यहां इसके बारे में लिखा है उसे भी देखिये।  

हिन्दी में नवीनतम पॉडकास्ट Latest podcast in Hindi
सुनने के लिये चिन्ह शीर्षक के बाद लगे चिन्ह ► पर चटका लगायें यह आपको इस फाइल के पेज पर ले जायगा। उसके बाद जहां Download और उसके बाद फाइल का नाम अंग्रेजी में लिखा है वहां चटका लगायें।:
Click on the symbol ► after the heading. This will take you to the page where file is. his will take you to the page where file is. Click where ‘Download’ and there after name of the file is written.)

यह पॉडकास्ट ogg फॉरमैट में है। यदि सुनने में मुश्किल हो तो दाहिने तरफ का विज़िट, 

मेरे पॉडकास्ट बकबक पर नयी प्रविष्टियां, इसकी फीड, और इसे कैसे सुने‘ 
 

About this post in Hindi-Roman and English 

is chitthi mein prasiddh vigyaan film shrnkhla star wars aur orion tara smooh ka tare betelgeuse ke supernova bnne kee  charcha hai.  yeh {devanaagaree script (lipi)} me hai. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhe

This post is popular science fiction film series ‘Star Wars’, and  Orion’s star Beetelgeues  becoming a supernova. It is in Hindi (Devnagri script). You can read it in Roman script or any other Indian regional script also – see the right hand widget for converting it in the other script.

सांकेतिक शब्द

Tags: ,

Posted in Full Articles | No Comments »

क्या टैटूईन ग्रह की तरह हमारे भी दो सूरज होंगे

इस चिट्ठी में, स्टार वारस् फिल्म श्रृंखला,  औरायन तारा समूह के दूसरे सबसे चमकीले तारे बीटलजूस (अ

Tags: ,

Posted in Full Articles | No Comments »

घोड़ा डाक्टर, गायों और भैंसों की लात खाते थे

 à¤‡à¤¸ चिट्ठी में, रोमुलस व्हिटाकर और किंग कोबरा के बारे में  चर्चा है।क्रॉकोडाइल फार्म की शिक्अ

Tags: ,

Posted in Full Articles | No Comments »

भारत में साइबर कानून

सूचना प्रौद्योगिकी के कारण कानून के हर क्षेत्र में मुश्किले आयीं। इस बार चर्चा का विषय है कि उनक…

Tags: , ,

Posted in Full Articles | No Comments »

Login