Unmukt – उन्मुक्त

हिन्दी चिट्ठाकार उन्मुक्त की चिट्ठियाँ

यदि यह आनन्द नहीं तब और क्या

इस चिट्ठी में कर्ट वोनेगेट के एक प्रसिद्ध उद्धरण, ज़ेन पेन्सिल चिट्ठे, और और मेरे प्रिय समय की चर्चा है।

कर्ट वोनेगेट फिल्म 'बैक टू स्कूल' फिल्म में

कर्ट फोनेगेट का जन्म ११ नवम्बर १९२२ को हुआ था उनकी मृत्यु  ११ अप्रैल २००७ को हो गयी। वे पढ़ाई की डिग्री से यांत्रिकी अभियन्ता थे। लेकिन, उनकी प्रसिद्धि  लेखक के रूप में है। उनका लेखन विज्ञान कहानियां, व्यंग्य, परिहास, निराशावाद के लिये जाना है।

फोनेगेट के प्रसिद्ध उद्धरण आप यहां पढ़ सकते हैं। उनका सबसे प्रसिद्ध जुमला है,

I urge you to please notice when you are happy, and exclaim or murmur or think at some point, ‘If this isn’t nice, I don’t know what is.’

जब तुम प्रसन्न हो तब उस पर ध्यान दो और कहो कि ‘यदि यह आनन्द नहीं तब और क्या’

ज़ेन पेन्सिल एक चिट्ठा है जो प्रसिद्ध उद्धरणों को कार्टून के रूप में दिखाता है। उसने इस उद्धरण को कार्टून के रूप में दिखाया और अपने प्रसन्नता का समय बताया

मेरा भी सबसे प्रसन्नता का समय भी यही है। मुझे जानवरों से प्यार है – अपने पाले कुत्तों से भी। मेरा सबसे अच्छा समय इन्ही के साथ गुजरता है। मेरे पास इस समय एक बॉक्सर है और इसके पहले, एक गोल्डन रिट्रीवर, टॉमी था।

टॉमी बेहद प्यारा था। मैं जब भी घर के अन्दर आता, वह हमेशा गेट पर पूंछ हिलाते और भौंकते ही मिलता था। लगता था कि वह दिन भर मेरे इंतजार में ही बैठा रहता था। शुभ्रा को हमेशा मुझसे जलन होती थी उसके आने पर पूंछ तो हिलाता था पर गेट पर पहुंच कर भौंकता नहीं था।

मेरे घर के सामने से अनगिनत कारें निकलती थीं पर मजाल कि वह उठे भी पर मेरी कार जब २०० मीटर दूर भी हो तो उसकी पूंछ का हिलना और भौंकना देखने काबिल होता था। अक्सर पहली बार हमारे घर में आये लोगों को अजीब लगता था कि एकदम से उसे क्या हो गया पर कुछ देर बाद समझ में आता था जब मेरी कार गेट के अन्दर आती थी।

मैं कभी, कभी शुभ्रा की कार लेकर भी बाहर जाता था पर वह न केवल कार की आवाज ही समझता था पर यह भी कि उसमें कौन है। यदि मैं उसमें हूं तो उसका बर्ताव वही होता था जो कि मेरी कार के लिये। शायद इसीलिये शुभ्रा को लगता था कि वह मेरे तीन प्रेमों में से एक था और इसीलिये क्रिकेट की नेटवेस्ट की सिरीस् जीतने के बाद वह भी हमारे साथ आइसक्रीम खाने गया था।

तीन साल पहले मित्रता दिवस पर वह हमें छोड़ कर चला गया।  इस पर मैंने उस पर एक चिट्ठी  ‘अंकल, क्या आप मुझे इसका पप दे सकते हैं‘ नाम से लिखी। कुछ समय बाद मुझे स्कॉट वेड के द्वारा कार के शीशों पर जमी मिट्ठी पर सुन्दर चित्र देखने को मिले। इसमें एक चित्र गोल्डन रिट्रीवर का था। इस पर मैंने टॉमी पर पुनः एक चिट्ठी  ‘अरे! ऐसा भी चित्र बनाया जा सकता है?‘ नाम से लिखी। इस उद्धरण और कार्टून को देख कर उसी की याद आ गयी।

मेरा गोल्डेन रिट्रीवर और बॉक्सर

टॉमी या जानवरों के प्रेम पर, मेरे या शुभ्रा के द्वारा  लिखी अन्य चिट्ठयां

सांकेतिक शब्द

Golden retriever, Boxer,

Kurt Vonegut,


Filed under: दर्शन, विचार

Tags: ,


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

Login